फेसबुक का ऐप इंस्टाल किए बिना भी कंपनी ट्रैक कर रही डिवाइस…

0
212

फेसबुक पर कम होते विश्वास के चलते अगर आपने इसका ऐप अपने डिवाइस से हटा दिया है तब भी कंपनी आपको ट्रैक कर सकती है। निजता के अधिकार के लिए काम करने वाली कंपनी प्राइवेसी इंटरनेशनल के अध्ययन में यह बात सामने आई है। रिसर्च के मुताबिक आपने मोबाइल पर फेसबुक ऐप इंस्टॉल नहीं किया है या आपका फेसबुक अकाउंट नहीं है तब भी फेसबुक कंपनी दूसरे ऐप की मदद से आपके डेटा तक पहुंच बना सकती है।

ऐसे सभी ऐप जिन्हें बनाते समय फेसबुक एसडीके नाम के ऐप डेवलपिंग टूल का इस्तेमाल किया गया, वे यूजर का डेटा फेसबुक को भेज सकते हैं। ड्यूलिंगो, ट्रिपएडवाइजर, इंडीड और स्काय स्कैनर जैसे नामी एंड्राॅइड ऐप भी यूजर का डेटा फेसबुक के साथ शेयर कर रहे हैं। जर्मनी के शहर लाइपजिग में हुई ‘कैओस कम्प्यूटर कांग्रेस’ में इस रिसर्च को प्रस्तुत किया गया।

अध्ययन में शामिल 61% ऐप फेसबुक को भेजते हैं डेटा

रिसर्च में प्राइवेसी इंटरनेशनल ने 10 से लेकर 50 करोड़ तक के यूजर बेस वाले ऐसे 34 एंड्राॅइड ऐप का अध्ययन किया जो फेसबुक के साथ डेटा शेयर करते हैं।
2018 में अगस्त से लेकर दिसंबर तक इन चुने हुए ऐप पर नजर रखी गई और देखा गया कि ये किस तरह का डेटा फेसबुक को भेजते हैं। अध्ययन में पता चला कि ऐप डेवलपर ऐप डेवलपिंग टूल ‘फेसबुक सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट किट’ के जरिए यूजर का डेटा फेसबुक तक पहुंचा रहे हैं।
फेसबुक एसडीके टूल एक फ्री टूल किट है जो डेवलपर को ऐप डेवलप करने के लिए उपलब्ध होता है। इस टूल किट से डेवलपर को कई फीचर उपलब्ध हो जाते हैं।
अध्ययन में 34 एंड्राॅइड ऐप्स को शामिल किया गया था। रिजल्ट में पाया गया कि इसमें से 23 ऐप यूजर के ओपन करते ही डेटा ऑटोमैटिकली ट्रांसमिट कर देते हैं।

‘डेटा शेयर करना आम बात’

प्राइवेसी इंटरनेशनल के इस अध्ययन से सामने आए परिणामों पर सफाई देते हुए फेसबुक ने कहा, “कई कंपनियां डेटा शेयर करती हैं और यह एक आम बात है। डेटा शेयर करना यूजर और कंपनी दोनों के लिए उपयोगी होता है। इन जानकारियों से ऐप डेवलपर को अपने ऐप की गुणवत्ता सुधारने में मदद मिलती है। यह एक पारदर्शी प्रक्रिया है जिसकी जानकारी हमारी डेटा और कुकीज पॉलिसी के जरिए यूजर्स को दी जाती है।” फेसबुक के अनुसार नॉन फेसबुक यूजर्स कुकीज को कंट्रोल कर सकते हैं और यह निश्चित कर सकते हैं कि उनके डेटा के अनुसार उन्हें विज्ञापन दिखाए जाएं या नही। हालांकि, प्राइवेसी इंटरनेशनल की रिपोर्ट के मुताबिक यूजर अगर इसे ऑफ कर दे तब भी उनका डेटा शेयर होता रहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here