बैंकों में आज से हड़ताल, पांच दिन बंद रहेंगे बैंक

0
248

ऑल इंडिया बैंक ऑफीसर्स कन्फेडरेशन (ऑयबॉक) ने केन्द्र सरकार और भारतीय बैंक संघ (आईबीए) के विरोध में इस हड़ताल का आह्वान किया है। 21 और 26 दिसम्बर को बैंक कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे। जबकि 22 दिसम्बर को चौथा शनिवार और 23 को रविवार होने के नाते बैंक बंद रहेंगे। 24 दिसम्बर को एक दिन खुलने के बाद क्रिसमस डे पर फिर 25 को बैंकों की बंदी है। ऐसे में पांच दिनों तक बैंक बंद रहेंगे। 

SBI के एटीएम कार्ड की कितनी है Withdrawal Limit, जानें 10 लेटेस्ट नियम

गुरुवार को ऑयबॉक के प्रांतीय महामंत्री दिलीप चौहान ने कहा कि न्यूनतम वेतन, कोर बिजनेस, एनपीए वसूली, नई पेंशन स्कीम को समाप्त करना, पेंशन अद्यतन पुनरीक्षण एवं एवं पारिवारिक पेंशन में सुधार जैसी मांगों पर बैंक कर्मचारी शुक्रवार और 26 दिसम्बर को हड़ताल पर रहेंगे। बताया कि आईबीए के साथ वेतन समझौता हमेशा स्केल एक से स्केल सात तक के अधिकारियों के लिए होता था। लेकिन इस बार आईबीए केवल स्केल तीन तक का वेतन समझौता करने का प्रस्ताव दिया है जिसके विरोध में आईबीए की बैठक का भी बहिष्कार किया गया। उन्होंने कहा कि आईबीए पिल्लई कमेटी की संस्तुतियों को लागू करना चाहिए जिसमें बैंक अधिकारियों का वेतन सिविल सेवा अधिकारी के समान होना चाहिए। 

कामकाजी महिलाओं को लुभा रहे हैं बैंक, दे रहे हैं इस तरह के खास ऑफर

हड़ताल वाले दिन प्राइवेट बैंक खुलेंगे 

21 से 26 दिसम्बर तक छह दिन में सरकारी बैंक केवल एक दिन ही खुलेंगे। हालांकि हड़ताल वाले दिनों में प्राइवेट बैंकों में कामकाज होता रहेगा। अन्य दो दिन यानि चौथा शनिवार और रविवार रहने के कारण प्राइवेट बैंक बंद रहेंगे। 

केंद्रीय मंत्री अठावले बोले, लोगों के बैंक अकाउंट में धीरे-धीरे आएंगे 15 लाख रुपए

केंद्र सरकार और आईबीए को चेतावनी 

संगठन के प्रांतीय अध्यक्ष पवन कुमार ने बताया कि 21 दिसम्बर की हड़ताल केन्द्र सरकार और आईबीए की नींव हिलाने के लिए मील का पत्थर साबित होगी। उन्होंने कहा कि ऑयबॉक ने चार्टर ऑफ डिमांड के अनुरूप 11वें द्विपक्षीय समझौता करने की मांग करता है। इस चार्टर में न्यूनतम वेतन, कोर बिजनेस, एनपीए वसूली, नई पेंशन स्कीम को समाप्त करना, पेंशन अद्यतन पुनरीक्षण एवं एवं पारिवारिक पेंशन में सुधार तघथा तीन सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों व ग्रामीण बैंकों के विलय के विरोध के साथ ही बैंक अधिकारियों पर पूरे देश में हो रहे हमले, चिकित्सा सुविधाओं में कटौती तथा स्वास्थ्य बीमा के प्रीमियम में बढ़ोत्तरी समेत अन्य मुद्दे शामिल हैं। 

निकाली चेतावनी रैली, आज करेंगे विरोध सभा

देशव्यापी हड़ताल के पूर्व गुरुवार को गोमतीनगर स्थित केनरा बैंक के सर्किल आफिस से चेतावनी रैली निकाली गई। दिलीप चौहान के नेतृत्व में निकाली गई रैली में बैंककर्मियों ने ‘आईबीए होड में आओ, हमारी मांगें पूरी करो’ जैसे नारे लगाए। संगठन के मीडिया प्रभारी अनिल तिवारी ने बताया कि शुक्रवार को बैंक हड़ताल में सभी बैंक अधिकारी हजरतगंज स्थित इलाहाबाद बैंक परिसर में केन्द्र सरकार और आईबीए के विरोध में सभा करेंगे।

हड़ताल को लेकर संगठन बंटे

बैंक अधिकारियों के चार संगठन पूरे देश में काम कर रहे हैं। जिनमें आल इंडिया बैंक ऑफीसर्स कन्फेडरेशन (ऑयबॉक), एआईबीओए, एनओबीडब्ल्यू तथा आईएनबीओसी शामिल हैं। गुरुवार को हुई प्रेसवार्ता में ऑयबॉक को छोड़कर किसी अन्य संगठन का कोई पदाधिकारी शामिल नहीं हुआ। हालांकि ऑयबॉक के पदाधिकारी इस बात का दावा करते रहे कि उनके संगठन में सबसे ज्यादा यानि तीन लाख 20 हजार से अधिक सदस्यों वाला संगठन है। ऐसे में शुक्रवार को होने वाली बैंक हड़ताल पूरी तरह से सफल रहेगी। वहीं नेशनल कंफेडरेशन ऑफ बैंक इम्पलाइज (एनसीबीई) के वाइस प्रेसीडेंट वीके सेंगर ने अपने संगठन की तरफ समर्थन जारी किया है। उन्होंने कहा कि केन्द्र और आईबीए की नीतियों के खिलाफ होने वाले संघर्ष में उनका संगठन नैतिक सर्मथन देता है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here