गेहूं की एलर्जी से परेशान 25 साल की इंजीनियर ने फांसी लगाकर दी जान

0
350

जींद। जींद के भारत सिनेमा रोड पर रहने वाली एक 25 वर्षीय इंजीनियर ने बीते सोमवार को घर में फांसी का फंदा लगाकर सुसाइड कर लिया। लड़की गेहूं से हो रही एलर्जी से परेशान थी, इस वजह से उसका 23 किलो वजन कम हो गया था और नौकरी भी छूट गई थी। उसका रोहतक पीजीआई से इलाज चल रहा था और नौकरी भी छूट गई थी। इस वजह से मानसिक रुप से परेशान चल रही थी।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मृतका सुरभि हिसार से बीटेक करने के बाद चार साल पहले गुड़गांव की निजी कंपनी में जॉब कर रही थी। माता सुनीता और पिता शक्ति सूद दोनों नौकरी करते हैं। सोमवार को दोनों ड्यूटी पर गए हुए थे। घर पर सुरभि और उसकी दादी थी। दादी नहाकर कमरे में आई तो सुरभि पंखे से लटकी हुई थी। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची लेकिन तब तक सुरभि की मौत हो चुकी थी।
पुलिस का कहना है कि सुरभि मानसिक रुप से परेशान थी। उसका रोहतक पीजीआई और जींद के एक अस्पताल में इलाज चल रहा था। सुरभि के पिता शक्ति ने बताया कि सुरभि को खाना खाने पर उल्टी-दस्त हो जाते थे। उसका वजन भी 23 किलो कम हो गया था। दो साल पहले उन्हें पता चला कि सुरभि को गेहूं से एलर्जी है। उसने गेहू की रोटियां छोड़कर चावल और चने से बनी रोटियां खानी शुरू कर दी। इसके बाद भी कोई सुधार नहीं हो रहा था। इस वजह से सुरभि परेशान चल रही थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here