कांग्रेसी पार्षद गिरफ्तार

0
157

जगदलपुर | जगदलपुर में PM आवास दिलाने के नाम पर वार्ड वासियों से लाखों रुपए कमीशन लेने वाली संजय गांधी वार्ड की कांग्रेसी पार्षद कोमल सेना को शनिवार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। कोमल सेना के खिलाफ पुलिस को सारे सबूत मिले हैं। जिसके बाद कोमल सेना की गिरफ्तारी की गई है। पार्षद को कोर्ट में पेश कर न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया गया है। दरअसल, कोमल सेना पर 40 से ज्यादा लोगों से PM आवास का लाभ दिलाने के नाम 10 लाख रुपए लेने का आरोप लगा था। इस बात की जानकारी तब सामने आई ती जब पीड़ितों ने पैसा वापस करने की मांग को लेकर हंगामा कर दिया था। उनका कहना था कि हमसे पैसे तो ले लिए। मगर घर हमें आज तक नहीं मिला। जिसके बाद से इस मामले ने तूल पकड़ा। भाजपा नेता भी कोमल सेना के खिलाफ FIR करवाने और उनकी गिरफ्तारी की मांग को लेकर पीड़ित परिवारों के साथ लगभग 25 दिनों तक धरने पर बैठे थे। वहीं कुछ दिन पहले ही भाजपाइयों ने पीड़ित परिवारों के साथ राज्यपाल अनुसुइया उइके से मुलाकात भी की थी। राज्यपाल ने भी आश्वासन दिया था कि मामले की निष्पक्ष जांच की जाएगी और दोषी पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी। जिसके बाद शनिवार को पुलिस ने FIR दर्ज की और कोमल सेना को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। जगदलपुर नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष संजय पांडेय ने कहा कि लंबे इंतजार के बाद वार्ड वासियों को न्याय मिला है। कांग्रेस पार्टी गरीबों को लूटने का काम करती है। जबकि भाजपा गरीबों के साथ खड़ी रहती है। यही वजह है कि गरीबों को न्याय दिलाने के लिए भाजपा के एक-एक कार्यकर्ता डटे रहे। कोमल सेना पर PM आवास का लाभ दिलाने के नाम पर 10 लाख रुपए से ज्यादा कि धोखाधड़ी का आरोप लगा था। वार्ड के 40 से ज्यादा लोगों ने PM आवास का लाभ लेने के लिए 25-25 हजार रुपए महिला पार्षद को दिए थे। साल 2020 में वार्ड में घूम-घूम कर लोगों से कहती रहीं कि एक ऑफर आया है, 25 हजार रुपए दो और PM आवास पाओ। लेकिन यह ऑफर केवल झुग्गी-झोपड़ी में रहने वालों के लिए है। पैसे लेने के बाद भी किसी को पीएम आवास का लाभ नहीं मिला। PM आवास दिलाने के नाम पर कमीशनखोरी के आरोपों से घिरी जगदलपुर नगर निगम की कांग्रेसी पार्षद का एक वीडियो वायरल हुआ था। लगभग 1 मिनट के वीडियो में पार्षद वार्ड वासियों को धमकियां देते हुए दिख रही थी। पार्षद कह रही थीं कि जब तक मेरा हुकुम चलेगा तब तक मैं यहां तुम लोगों को रहने नहीं दूंगी। पैसा लौटा दूंगी लेकिन अब घर नहीं दूंगी। कलेक्टर बोले हैं काम हो जाएगा, लेकिन अब देखना इन लोगों का मैं क्या करती हूं? इस वीडियो को वार्ड की महिलाओं ने बनाया और सोशल मीडिया में वायरल किया था। वीडियो वायरल होने से पहले पार्षद के वार्ड की एक महिला के साथ बातचीत का एक ऑडियो भी वायरल हुआ था। उसमें पार्षद कह रही थी कि आगे वाला आदमी बोला कि मैं दिलवा दूंगा, इस बेस पर ही मैं इस सब चीज को की। मेरा उद्देश्य आप लोगों को न तो परेशान करने का है और न ही तकलीफ देने का है। मैं भी फंस गईं हूं। जो करने वाला था वो तो चले गया है। भले ही आगे वाला व्यक्ति चले गया है लेकिन मैं तो खड़ी हूं सबका काम करके मैं दूंगी। मेरी खुद की स्थिति भी अभी खराब है यदि मेरे पास पैसे होते हैं तो मैं आप लोगों को पैसे लौटा देती और अपनी खुद की स्थिति भी ठीक कर लेती।