5 करोड़ का आंकड़ा पार…..

0
196

म्यूचुअल फंड | म्यूचुअल फंड (MF) इंडस्ट्री में सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIPs) जनवरी में 5 करोड़ का आंकड़ा पार कर गई। यह अचीवमेंट मार्केट की अस्थिरता के बीच इक्विटी स्कीम में कम इनवेस्टर फ्लो के बावजूद मिली है। AMFI डेटा के मुताबिक MF इंडस्ट्री ने जनवरी में 14 लाख नए SIP जोड़े। हालांकि पिछले 5 महीनों में औसतन हर महीने 24 लाख नए SIP खाते जुड़ रहे थे। इससे यह पता चलता है कि जनवरी में मार्केट में उतार-चढ़ाव के चलते निवेशक इससे दूर रहे। इंडस्ट्री के जानकारों का कहना है कि इनवेस्टर अब SIP के महत्व को समझने लगे हैं। शेयर बाजार के दोनों प्रमुख इंडेक्स- सेंसेक्स और निफ्टी में 17 जनवरी के बाद से अब तक 4% की गिरावट देखी गई है। म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री में मंथली SIP के जरिए आने वाला निवेश लगातार बढ़ रहा है। जनवरी में म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री में SIP का कंट्रीब्यूशन 11,516 करोड़ रुपए रहा, जो पिछले महीने की तुलना में लगभग 2% ज्यादा रहा। सेबी के आंकड़ों के मुताबिक देश में 1.85 करोड़ म्यूचुअल फंड निवेशक हैं। इनमें से 5 लाख रुपए से कम आय वाले निवेशक 70% हैं। हालांकि, 70% निवेशक म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री की संपत्ति का केवल 29% हैं। सेट अंडर मैनेजमेंट (AUM) के लिहाज से सबसे ज्यादा हिस्सेदारी सालाना 1 करोड़ से 5 करोड़ रुपए कमाने वालों की है। म्यूचुअल फंड क्या है? म्यूचुअल फंड निवेश का एक साधन है। जिस तरह बीमा, शेयर मार्केट, बैंक FD में निवेश करते हैं उसी तरह म्यूचुअल फंड में भी निवेश कर सकते हैं। यह देश की सबसे ज्यादा ट्रांसपेरेंट और रेगुलेटेड इंडस्ट्री है। SIP क्या है? SIP के जरिए म्यूचुअल फंड में निवेश करना काफी आसान होता है। यह मंथली बचत होती है जो आप हर महीने करते हैं। SIP अपने आप में निवेश नहीं है। यह केवल निवेश की विधि है। लंबे समय वाला SIP के म्यूचुअल फंड फायदे का सौदा माना जाता है। क्योंकि इसमें शेयर मार्केट के निचले स्तर और सबसे ऊंचे शेयर का एक औसत रिटर्न बनता है जो लगभग सभी घाटे की भरपाई कर देता है। इसके बाद आपको अच्छा रिटर्न मिल जाता है। इक्विटी म्यूचुअल फंड में रिस्क भी ज्यादा होता है, लेकिन यहां लाभ की संभावना भी उसी औसत में बढ़ जाती है। अगर मंदी का दौर है उस समय SIP में पैसे लगा रहे हैं तो यह आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। आप 5 या 10 लाख रुपए का मासिक SIP शुरू कर सकते हैं। SIP किस्त के लिए न्यूनतम राशि 500 रुपए से 5,000 रुपए प्रति माह के बीच बदलती है।