ज्यादा समय नहीं दिया….

0
113

करनाल | डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम की फरलो का बुधवार को तीसरा दिन था। बुधवार को करनाल के एक पुलिस अधिकारी गुरुग्राम नामचर्चा घर पर पहुंचे। उन्होंने सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। इधर, डेरा प्रमुख ने इन 3 दिनों में केवल दो बार ही अपने परिवार वालों से मुलाकात की। डेरा प्रमुख नामचर्चा घर की तीसरी मंजिल पर है, वह एक बार ही नीचे उतरा। किसी से भी नहीं मिल रहा। उसका परिवार पहली मंजिल पर है, जबकि दूसरी मंजिल पर पुलिस तैनात है। ग्राउंड फ्लोर पर सेवादार तैनात हैं। डेरा प्रमुख हनीप्रीत से भी ज्यादा देर नहीं मिला। हनीप्रीत नामचर्चा घर से जा चुकी है। डेरा प्रमुख के परिवार और हनीप्रीत के बीच भी कोई बातचीत नहीं है। पंजाब चुनावों से पहले यूपी में पहले फेज में चुनाव 10 फरवरी को हैं। ऐसे में डेरे के कुछ पदाधिकारियों ने चुनावों से पहले हरियाणा के सीमावर्ती जिलों के नामचर्चा घरों में भी मीटिंग बुलाई है। यूपी के पश्चिमी यूपी बेल्ट में डेरा अनुयायी हैं। हालांकि इनकी संख्या ज्यादा नहीं है, लेकिन कांटे की टक्कर में डेरा प्रेमियों का वोट निर्णायक साबित हो सकता है। यूपी के सिकंदराबाद विधानसभा क्षेत्र में गुलावठी नामचर्चा घर में मीटिंग हुई। इस दौरान मीटिंग में आने वालों के मोबाइल बाहर रखवाए गए। बरौली में भी मीटिंग हुई है। लोनी, मुराद और मुजफरनगर में भी मीटिंग हुई। डेरा प्रमुख को फरलो मिलने के कारण यूपी में सत्तापक्ष को फायदा मिल सकता है। हालांकि डेरा अनुयायी सरकार से नाराज भी हैं। डेरा सच्चा सौदा प्रमुख साध्वी यौन शोषण मामले समेत पत्रकार छत्रपति हत्याकांड और रणजीत हत्याकांड में सजा काट रहा है। 2017 से डेरा प्रमुख जेल में बंद है। हालांकि इस बीच उसे एक बार अपनी बीमार मां से मिलने के लिए 12 घंटे की पैरोल मिली थी। इससे पहले उसने तीन बार पैरोल के लिए आवेदन किया था, लेकिन सिरसा प्रशासन ने आवेदन रद्द कर दिया था। अब की बार पांच राज्यों के चुनाव से पहले डेरा प्रमुख को 21 दिन की फरलो मिली।