दोनों दलालों की तलाश में जुटी………

0
125

राजस्थान | राजस्थान का बहुचर्चित रीट एग्जाम लेवल 2 रद्द हो गई। टोंक जिले के LDC ने अपने रिश्तेदारों को रीट एग्जाम पास करने के लिए बाड़मेर के दलालों को 40 लाख रुपए दिए थे। पेपर रद्द होने से परेशान एलडीसी आखिर सुसाइड कर लिया। सुसाइड करने से पहले एक सुसाइड नोट भी लिखा है। सुसाइड नोट में लिखा कि रीट एग्जाम पेपर खरीदने के लिए बाड़मेर जिले के दलाल कैलाश विश्नोई को 24 लाख, जयपुर के दलाल देवराज गुर्जर को 16 लाख रुपए दिए थे। अब बाड़मेर में पुलिस दोनों दलालों की तलाश में जुटी है। टोंक पुलिस ने बाड़मेर पुलिस से संपर्क किया है। एएसपी नरपतसिंह ने बताया कि टोंक पुलिस ने 24 लाख लेने वाले कैलाश विश्नोई के बारे में जानकारी मांगी है, लेकिन हमारे पास में केवल कैलाश विश्नोई नाम ही सामने आया है। जो एड्रेस उन्होंने बताया है कि उन इलाको में इस नाम को कोई व्यक्ति नहीं मिला है। अब रणवा गांव नाम से मिलते-जुलते गांवो का पता लगाकर पता लगाने की कोशिश कर रह है। जिले के संबंधित थानों के एसएचओ को निर्देश दे दिए है। कैलाश् विश्नोई का पता लगाने में जुटी पुलिस | बीते 24 घंटों की जांच में कैलाश विश्नोई के बारे में पुलिस कोई पुख्ता जानकारी नहीं मिल पाई है। अब पुलिस इस मामले में कैलाश विश्नोई नाम के सरकारी कर्मचारियों को भी खंगाल रही है। साथ में मोबाइल नंबर की डिटेल के आधार पर पता लगाने का प्रयास कर रही है। दरअसल, टोंक जिले के नगरफोर्ट थाने में लड्‌डूलाल मीणा ने रिपोर्ट देकर बताया कि उसके 22 साल के बेटे लोकेश कुमार मीणा ने सोमवार अलसुबह 3-4 बजे घर के कमरे में फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। वह कई दिनों से परेशान था। उसने बताया कि उस पर कई लोग रुपए देने का दबाव बना रहे हैं। कैलाश विश्नोई रणवा बाड़मेर से 24 लाख रुपए व जयपुर के देवराज गुर्जर से 16 लाख रुपए रीट परीक्षा पास करवाने के लिए ले रखे थे। अब ये लोग उसे परेशान कर रहे थे, जबकि उसने ये पैसे की गारंटी नहीं ली थी। इसके बाद से लगातार लोग उसे पेमेंट देने के लिए परेशान कर रहे हैं। इस वजह से आत्महत्या की है। युवक पीडब्ल्यूडी हिंडौली में डेपुटेशन पर कनिष्ठ सहायक के पद पर कार्यरत था।