देहरादून। विधानसभा चुनावों के लिए बुधवार को भाजपा ने अपना दृष्टि पत्र जारी…

0
128

देहरादून। विधानसभा चुनावों के लिए बुधवार को भाजपा ने अपना दृष्टि पत्र जारी किया। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी की ओर से दृष्टि पत्र जारी किया गया। इस दृष्टि पत्र में सख्त भू कानून लाया जाएगा, हिम प्रहरी बनाये जाएंगे।

दृष्टिपत्र के अनुसार, पूर्व सीडीएस जनरल विपिन रावत के नाम पर पूर्व सैनिकों के लिए क्रेडिट गारंटी फंड बनाया जाएगा। किसानों को छह हजार दिए जाएंगे। ऑर्गनिक मिशन शुरू होगा। 3500 गांवों के लिए विशेष योजना, कुमाऊं में मानस मंदिर मिशन के तहत मंदिरों को विकसित किया जाएगा। हरिद्वार में मिशन मायापूरी शुरू होगी। गरीब महिलाओं को साल में तीन निशुल्क सिलेंडर, बीपीएल परिवार की महिला प्रमुख को तीन हजार रुपये दिए जाएंगे। महिला सहायता समूहों के लिए 500 करोड़ की निधि। 108 को ब्लॉक से नीचे तक पहुंचाया जाएगा, गांव गांव सचल अस्पताल, 400 जन औषधि केंद्र, राज्य में रोपवे की श्रृंखला विकसित होगी, राज्य में मैदानी क्षेत्रों में छात्राओं को साइकिल, पर्वतीय क्षेत्रों में साइकिल का पैसा दिया जाएगा। असंगठित क्षेते के मज़दूरों को छह हजार तक कि पेंशन, पांच लाख का बीमा दिया जाएगा।

प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि अनुभवी नेता को दृष्टि पत्र बनाने की जिम्मेदारी दी गई थी। सड़कों के क्षेत्र में गडकरी जी ने सराहनीय कार्य किया है। अन्य दलों के और भाजपा के पत्र में यह अंतर की यह जनता का पत्र है। आम लोगों से सुझाव लेकर तैयार किया गया। 70 सुझाव पेटिका विधानसभा क्षेत्रों में रखे गए थे। 13 जिलों में जाकर सभी की राय ली। किसान, पूर्व सैनिक और महिलाओं की भी राय। अन्य दलों ने कमरे में बैठकर घोषणा पत्र तैयार किया। 2017 के घोषणा पत्र में किये गए वादे को पूरा किया गया। इसमे योजनाओं को पूरा करने के लिए पूरा खाका प्रस्तुत किया है।

पूर्व मुख्यमंत्री और घोषणा पत्र समिति के संयोजक डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि राज्य के इतिहास में पहली बार आम लोगों की राय के अनुसार दृष्टि पत्र तैयार किया गया। इस अवसर पर राज्य चुनाव प्रभारी प्रह्लाद जोशी, पूर्व मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, त्रिवेंद्र सिंह रावत, तीरथ सिंह रावत, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, संसद नरेश बंसल, माला राज्य लक्ष्मी शाह , सह चुनाव प्रभारी रेखा वर्मा, मनवीर सिंह चौहान सहित कई नेता मौजूद रहे।