एफआईआर दर्ज की गई……

0
185

मुंबई – नागरिक संसोधन कानून (सीएए) के खिलाफ 26 जनवरी से नागपाड़ा इलाके में बिना अनुमति के प्रदर्शन करने पर करीब 200 प्रदर्शनकारियों और आयोजकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। यह एफआईआर बीएमसी की असिस्टेंट कमिश्नर अल्का ससाने की शिकायत पर नागपाड़ा पुलिस स्टेशन में दर्ज की गई है। दिल्ली के शाहीन बाग की तर्ज पर नागपाड़ा में मुंबई बाग के नाम से 14 दिनों से प्रदर्शन चल रहा है। इसमें बड़ी संख्या में मुस्लिम महिलाएं शामिल हैं। प्रदेश के गृह मंत्री अनिल देशमुख से मुस्लिम समाज के जनप्रतिनिधियों ने मुलाकात भी की थी। इनमें समाजवादी पार्टी (सपा) के विधायक अबू आसिफ आजमी, रईस शेख, एमआईएम के पूर्व विधायक युसूफ अलवानी, फिरोज मीठीबोरवाला समेत कई नेता मौजूद थे। मुलाकात के बाद गृहमंत्री ने प्रदर्शन को खत्म करने को कहा था। हालांकि, उनके कहने के बावजूद प्रदर्शनकारी डटे रहे। जिसके बाद शुक्रवार देर रात यह एफआईआर दर्ज हुई है। सभी के खिलाफ सड़क जाम करने और नारेबाजी करने के लिए मुंबई नगर निगम अधिनियम 1888 और आपराधिक संशोधन अधिनियम 1982 के तहत केस दर्ज किया गया है। नागपाड़ा पुलिस के मुताबिक, आज से इनकी गिरफ्तारी के लिए प्रयास किया जाएगा।