जांच की जिम्मेदारी पेयजल मंत्री मिथिलेश ठाकुर को सौंपी…

0
287

रांची – गढ़वा जिले के कांडी प्रखंड में छात्रा के गर्भवती होने की खबर का गुरुवार को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने संज्ञान लिया है। मुख्यमंत्री ने पूरे मामले के जांच की जिम्मेदारी पेयजल मंत्री मिथिलेश ठाकुर को सौंपी है। मंत्री कांडी स्थित कस्तूरबा आवासीय विद्यालय पहुंचे और घटना की जानकारी ली। उधर, छात्रा के पिता द्वारा थाना में शिकायत दर्ज कराने के बाद पुलिस ने इस मामले में आरोपी पीड़ित के चचेरे भाई को गिरफ्तार किया है। बता दें कि छात्रा कस्तूरबा आवासीय विद्यालय की छात्रा है। घटना के सामने आने के बाद से ही छात्रा के बारे में कोई जानकारी नहीं है। मीडिया से बात करते हुए मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने कहा नाबालिग के साथ उसके चचेरे भाई ने उसके घर में ही गलत किया है। घटना विद्यालय की नहीं है। मामले की विभागीय स्तर से भी जांच की जा रही है। जांच के दौरान छोटे से बड़े अधिकारी तथा स्कूल के कर्मचारियों को दोषी पाए जाने पर न्याय संगत कार्रवाई की जाएगी। किसी को माफ नहीं किया जाएगा। मंत्री ने छात्रावास की वार्डन से पूछताछ की। इस दौरान उन्होंने कहा कि जब हर महीने छात्राओं की मेडिकल जांच की जानी है तो इतनी बड़ी चूक कैसे हो गई? इससे पहले बुधवार को बाल कल्याण समिति गढ़वा के अध्यक्ष उपेंद्र नाथ कांडी पहुंचे थे और घटना की जानकारी ली थी। इस दौरान उन्होंने कहा कि कई अफसर व अन्य इस मामले में अपराधी हैं। सघन जांच के बाद दोषियों को गिरफ्तार कर सजा देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इस बार उपायुक्त हर्ष मंगला ने बेहद संवेदनशीलता दिखाते हुए त्वरित कार्रवाई की पहल की है। साथ ही उन्होंने कहा कि अभी तक अफसर यह पता नहीं लगा सके हैं कि छात्रा को किसने गर्भवती किया। सूत्रों के मुताबिक, छात्रा के गर्भवती होने के बाद उसके अबॉर्शन कराने जाने की खबर है। साथ ही इस मामले में बरडीहा थाना क्षेत्र में नाबालिग के पिता मामला दर्ज कराया है जिसके बाद पुलिस ने नाबालिग के चचेरे भाई को बुधवार की शाम को गिरफ्तार किया है। नाबालिग के पिता की ओर से थाना प्रभारी को दिए गए आवेदन में कहा गया है कि नाबालिग को झांसे में लेकर उसके साथ गलत किया गया है। छात्रा के अबॉर्शन की खबरों के बाद मामले में संबंधित अस्पताल व उसके संचालक पर भी कार्रवाई तय मानी जा रही है। हालांकि अभी अबॉर्शन की पुष्टि नहीं हो पाई है। इस संबंध में एसडीपीओ बाहमन टूटी ने बताया कि बरडीहा थाना में मामला दर्ज करने के तत्काल बाद आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। गढ़वा के बालिका आवासीय स्कूल में मंगलवार को नाैवीं की छात्रा के गर्भवती होने का मामला सामने आया था। छात्रा को उल्टी करते देख वार्डन को शक हुआ। पूछताछ करने पर छात्रा ने बताया कि उसकी तबीयत खराब है। इसलिए उसे उल्टी हो रही है। बाद में जब प्रेग्नेंसी किट से जांच की गई तो छात्रा के गर्भवती होने की पुष्टि हो गई। मामला जब अफसरों तक पहुंचा तो वे जांच के लिए स्कूल पहुंचे, पर वहां कोई नहीं मिला। वार्डन और एकाउंटेंट फरार हैं।