एक के लिए उम्मीदवार……………

0
176

मुंबई – मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे विधान परिषद की दो रिक्त सीटों में से एक के लिए उम्मीदवार हो सकते हैं। राकांपा के धनंजय मुंडे और शिवसेना के तानाजी सावंत के विधानसभा चुनाव जीतने के बाद खाली हुई दोनों सीटों पर जल्द ही उपचुनाव होंगे। फिलहाल ठाकरे किसी भी सदन के सदस्य नहीं हैं। नियमों के मुताबिक, छह महीने के भीतर उन्हें विधानसभा या विधान परिषद में से किसी एक का सदस्य बनना होगा। ऐसे में माना जा रहा है कि ठाकरे महाराष्ट्र विकास आघाडी के उम्मीदवार बनाए जाएंगे।  चुनाव आयोग ने शुक्रवार को उपचुनाव का कार्यक्रम घोषित किया जिसके मुताबिक धनंजय मुंडे की विधानसभा चुनाव में जीत के बाद खाली हुई विधान परिषद सीट के लिए 7 जनवरी को अधिसूचना जारी की जाएगी। 14 जनवरी तक उम्मीदवार अपनी अर्जी भर सकते हैं। 17 जनवरी तक अर्जी वापस लेने की इजाजत होगी जबकि 24 जनवरी को मतदान कराया जाएगा। उम्मीद है कि तीनों पार्टियों के संयुक्त उम्मीदवार होने के चलते उद्धव का चुनाव निर्विरोध हो जाएगा।  फिलहाल महाराष्ट्र विकास आघाडी के पास 170 सदस्य हैं। चार अन्य विधायक भी ठाकरे को समर्थन दे सकते हैं। इसलिए इस बात की उम्मीद कम है कि भाजपा अपना उम्मीदवार मैदान में उतारेगी। बता दें कि उद्धव ने बीते 28 नवंबर को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है और फिलहाल वे किसी भी सदन के सदस्य नहीं हैं। 27 मई से पहले उनकों दोनों में से किसी एक सदन का सदस्य बनना होगा। चुने गए सदस्य का कार्यकाल 7 जुलाई 2022 तक होगा। विधानपरिषद की यवतमाल स्थानीय निकाय सीट के लिए भी उपचुनाव की घोषणा कर दी गई है। इस सीट से विप सदस्य रहे तानाजी सावंत हालिया विधानसभा चुनावों में परांड सीट से चुनाव जीत गए थे। इसके चलते रिक्त हुई इस सीट के लिए 31 जनवरी को मतदान होगा। इस सीट पर चुने जाने वाले सदस्य का कार्यकाल 15 दिसंबर 2022 तक होगा।