मौत की छलांग लगा दी…………

0
214
सूरत –  वापी के नेहरू स्ट्रीट इलाके में महाराजा होटल की पांचवीं मंजिल के टेरेस से सूरत के 51 वर्षीय पीयूष पच्चीगर ने दोपहर 12 बजे मौत की छलांग लगा दी। कूदने के पहले वह 15 मिनट तक हाथ जोड़कर खड़ा रहा। इस दौरान लोग वीडियो बनाते रहे।किसी ने न तो थाने में सूचना दी और न ही फायर ब्रिगेड काे बताया, जबकि ये दोनों घटनास्थल से काफी करीब हैं।
लोगों से धोखाधड़ी करता था –  सूरत के महिधरपुरा स्थित घिया गली में रहने वाले 51 वर्षीय पीयूष पच्चीगर किसी काम से वापी आए थे। यहां नेहरू स्ट्रीट इलाके में महाराजा होटल में उन्होंने रूम बुक कराया। बुधवार की सुबह 8 बजे वे बाहर निकले। थोड़ी देर बाद फिर अंदर चले गए। इसके बाद 11.40 बजे वे फिर बाहर आए और होटल के साइन बोर्ड पर चढ़ गए। करीब 15 मिनट तक वे उस पर खड़े रहे। इस दौरान उन्होंने कई बार हाथ जोड़ा। आखिर में उन्होंने वहां से छलांग लगा दी। नीचे गिरने के कुछ ही देर बाद उनकी मौत हो गई।
बोर्ड पर खड़े होने के कारण बचाया नहीं जा सका – पीएसआई मोरी के अनुसार वे कोई काम-धंधा नहीं करते थे। साथ ही लोगों के साथ धोखाधड़ी करते रहते थे। ऐसा प्राथमिक जांच में सामने आया है। इस मामले में बताया गया है कि सूचना मिलते ही एक कांस्टेबल और अन्य चार लोग पीयूष को बचाने के लिए टेरेस पर गए थे, पर पीयूष बोर्ड पर खड़े थे, इसलिए उसे बचाया नहीं जा सका।
झवेरी से विवाद हुआ था –  वापी मुख्य बाजार में एक ज्वेलर्स के मालिक ने पीयूष पर मंगलवार की रात एक घटना के संदर्भ में चोरी का आरोप लगाया था। अपने तीन साथियों के साथ व्यापारी होटल पहुंचा था। इससे पीयूष घबरा गया, उनसे बचने के लिए वह होटल के बोर्ड पर चढ़ गया। फिर उसने वहीं से छलांग लगा दी।
पीयूष के बारे में पता चला है कि 10 साल से उसका परिवार वालों से कोई संबंध नहीं था। वह घर पर भी नहीं रहते थे। इसके पहले वह हीरा कारखाने में काम करता था। इसके बाद उसने नवग्रहों का काम शुरू किया। इसमें उसने एक व्यापारी के साथ लाखों की धोखाधड़ी की थी। इस मामले की रिपोर्ट भी थाने में दर्ज है। पुलिस से बचने के लिए ही वह घर पर नहीं रहते थे। परिवार में पत्नी और एक बेटी है। बेटी की शादी हो गई है। सुसाइड का कारण पता नहीं चल पाया है।