उतारकर दे दिए जेवर……

0
199

रायपुर – गोलबाजार में त्योहार की खरीदारी करने दंतेवाड़ा से आई महिला प्राचार्य से दो जालसाजों ने सवा लाख के जेवरों की ठगी कर ली। जालसाज युवकों ने महिला प्राचार्य को अकेली देखकर उसे रोका। दो दिन से भूखे होने का नाटक कर उसकी सहानुभूति ली। महिला उन्हें होटल में नाश्ता करवाने ले गई। नाश्ते की टेबल पर उन्होंने महिला को बातों में ऐसा फंसाया कि वे जैसा कहने लगे वे वैसा करने लगी। जालसाजों ने उससे जेवर उतरवा लिए। गहने लेकर दोनों होटल से भाग निकले, तब महिला को होश आया। उसके बाद महिला ने हल्ला मचाया लेकिन तब तक देर हो चुकी थी। दोनों ठगों युवकों का फुटेज मिल गया है। पुलिस सीसीटीवी फुटेज के आधार पर उनकी तलाश कर रही है।
रिपोर्ट दर्ज होने के बाद से पुलिस भी हैरान है। सरेआम भीड़ भरे होटल में जालसाजों ने जिस तरह महिला को अपने वश में किया, पुलिस उसकी भी जांच कर रही है। प्रारंभिक जांच में पता चला है कि दंतेवाड़ा बचेली के एक प्राइवेट स्कूल में हेमलता वर्मा प्राचार्य हैं। उनकी बेटियां डंगनिया में रहती हैं। वे मिलने रायपुर आईं थीं। शुक्रवार शाम को वे त्योहार के लिए खरीदारी करने गोलबाजार पहुंची। बाजार में उन्हें तभी दो युवक मिले। उनकी उम्आर 25-30 के बीच होगी। दोनों ने महिला से कहा कि उन्हें भूख लग रहा है। उन्होंने दो दिन से कुछ नहीं खाया। उनके पास खाना खाने के लिए भी पैसे नहीं है। दोनों बुजुर्ग महिला से मिन्नतें करने लगे। बुजुर्ग को उन पर दया आ गयी। वे दोनों को नाश्ता करने के लिए मालवीय रोड के होटल में ले गईं। पुलिस के अनुसार टेबल में बैठते ही दोनों युवक इधर-उधर की बातचीत करने लगे। इसी बीच दोनों ने बुजुर्ग को उनका जेवर दिखाने को कहा, तो उन्होंने पहले चेन फिर कंगन उतार दिया। इस दौरान तीनों ने नाश्ता किए। फिर उन्हाेंने पर्स से पैसा निकालकर एक युवक को पेमेंट करने के लिए कहा। एक युवक उठकर पेमेंट करने गया। दूसरा पानी पीने गया और देखते ही देखते गायब हा़े गए। तब बुजुर्ग का ध्यान टेबल पर गया, तो उनका जेवर गायब था। उन्होंने शोर मचाया लेकिन तब तक देर हो चुकी थी। पुलिस के अनुसार बुजुर्ग का कहना है कि उन्हें क्या हो गया था? समझ नहीं आ रहा है। उन्होंने कब जेवर उतरवाया, उन्हें याद नहीं। पुलिस के अनुसार बुजुर्ग को सम्मोहित करके उनका जेवर उतरकर ले गए।  त्योहार पर उठाईगिरी गिरोह सक्रिय : पुलिस के अनुसार त्योहार में उठाईगिरी करने वाला गिरोह सक्रिय हो गया है। ईरानी गिरोह इस तरह से बुजुर्गों को झांसे में लेकर और हिप्नोटाइज़ कर उठाईगिरी करते हैं। यह गिरोह मध्यप्रदेश, आंध्रा, कर्नाटक और महाराष्ट्र से आता है। इसमें कम उम्र के लड़के होते हैं। गिरोह के सदस्य हिप्नोटाइज़ करने में माहिर होते हैं। बहुत आसानी से लोगों को सम्मोहित कर लेते हैं। उनका तरीका ऐसा रहता है कि कुछ देर के लिए उनके सामने बैठने वाला सबकुछ भूल जाता है। वह वही करने लगता है जो वे लोग कहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here