शहर के करीब सक्रिय थे नक्सली….

0
263

जगदलपुर-  शहर सीमा से लगे माचकोट और तिरिया के जंगलों में लाल आंतक की सुगबुगाहट तेज होने के बाद डीआरजी और एसटीएफ के जवानों ने नक्सलियों पर तगड़ा प्रहार किया है। यहां तिरिया के जंगलों में जवानों ने सात नक्सलियों को मार गिराया है। नक्सलियों के इस इलाके में मौजूदगी की खबर भास्कर ने एक साल पहले ही प्रकाशित की थी उस दौरान तत्कालीन अफसर इस बात को मानने को तैयार नहीं थे।
नक्सलियों ने पिछले एक साल में यहां अपने खत्म हो चुके माचकोट एलओएस को न सिर्फ जिंदा किया बल्कि इसका सफलता पूर्वक संचालन भी कर रहे थे। सूत्र बता रहे हैं कि नक्सलियों की दो टुकड़ी इस इलाके में घूम रही थी और दो दिनों पहले ही हथियारबंद नक्सली तिरिया गांव तक पहुंच गए थे। इसके बाद ही पुलिस ने इसे गंभीरता से लिया और नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन लांच किया गया। जवान दो दिनों से नक्सलियों की तलाश में जंगल की खाक छान रहे थे।
अपने लिए सबसे सुरक्षित इलाका मान रहे थे नक्सली
जगदलपुर से तिरिया करीब 40 किमी और माचकोट िसर्फ 18 किमी ही दूर है। वहीं विधानसभा चुनाव के लिए मतदान वाले दिन भी नक्सलियो ने गुम्मलवाड़ा में विस्फोट किया था। जो कि जगदलपुर से करीब 35 किमी पास है। तब भी पुलिस ने इस और ध्यान नही दिया था और पूरे मामले को ही दबा दिया था। तिरिया और माचकोट के इलाकों में सिर्फ जंगल ही मौजूद नहीं है बल्कि यहां पूरा इलाका ओडिशा से सटा हुआ है। बार्डर होने से नक्सलियों के लिए यह जंगल सबसे सेफ है। दरभा के तुलसीडोंगरी से सटे बार्डर एरिया में अभी सुकमा, ओडिशा और बस्तर पुलिस की नजरें बनी हुई हैं। बस्तर पुलिस कुम्माकोलेंग, कोटपदर इलाके में लगातार ऑपरेशन कर रही हैं। ऐसे में नक्सलियों के लिए माचकोट वाला इलाका बेहद सेफ है।
शंकर के सरेंडर के बाद माचकोट एलओएस हो गया था खत्म
माचकोट का इलाका नक्सलियों ने लिए नया नहीं है। नक्सलियों ने यहां बाकायदा माचकोट एलओएस का गठन किया था और इसमें स्थानीय लोगों को जोड़ा था। इस एलओएस की कमान शंकर के हाथों में थी। उसके सरेंडर के बाद माचकोट एलओएस खत्म हो गया था। ऐसा माना जा रहा है कि पुलिस के प्रेशर के बाद खत्म हो चुके इस एलओएस को नक्सली फिर से जिंदा करने में लगे हुए हैं।
फोर्स की एक टीम जंगल में, लौटने पर मामले का खुलासा
घटना के बाद देर शाम मारे गए नक्सलियों के शवों को पुलिस लाइन जगदलपुर में लाया गया। यहां लाशों को एक कमरे में बंद कर रखा गया है और इसकी तस्वीर या वीडियो लेने की इजाजत मीडियाकर्मियों को नहीं दी गई है। अफसर कहते रहे कि अभी एक टीम जंगल में है टीम के आने के बाद रविवार की सुबह पूरे मामले का खुलासा किया जाएगा।
नगरनार को जहां से पानी सप्लाई होना है उसी इंटेकवेल के किनारे मिले नक्सली
बताया जा रहा है कि नगरनार स्टील प्लांट के लिए जिस स्थान से पानी की सप्लाई होनी है उसी स्थान के आसपास नक्सलियों ने अपना डेरा जमाया था। सूत्रों के अनुसार एनकाउंटर भी नगरनार स्टील प्लांट को पानी सप्लाई के लिए बनाए गए इंटेकवेल के पास हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here