सीने में धड़केगा…..62 साल की विमला का दिल

0
393

भोपाल –  देने का सुख… और दिया गया ऐसा दान जिससे किसी भी व्यक्ति को नई जिंदगी मिल जाए तो फिर इससे बड़ा परोपकार कुछ नहीं। लेकिन ये परोपकार भी ऐसा है कि दुनिया से जाते-जाते सह्याद्रि परिसर निवासी 62 वर्षीय विमला अजमेरा 6 लोगों को नई जिंदगी दे गईं।
दरअसल, विमला 22 मई को हुए एक हादसे के बाद से अस्पताल में भर्ती थीं। बुधवार सुबह उन्हें ब्रेनडेड घोषित किया गया। इसके बाद परिजनों ने उनका हार्ट, लिवर, दोनों किडनी और कॉर्निया डोनेट कर दिए हैं। गुरुवार सुबह शुरू होने वाली सर्जरी के बाद विमला का हार्ट सुबह आठ बजे की फ्लाइट से मुंबई भेजा जाएगा।फोर्टिस हॉस्पिटल में हार्ट डिसीज से जूझ रहे 12 साल के मासूम को उनका हार्ट लगाया जाएगा। विमला का लिवर, किडनी और कॉर्निया भोपाल के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कुल पांच मरीजों को लगाए जाएंगे। ऑर्गन डोनेशन समिति के अनुसार विमला के परिजनों ने खुद ही डोेनेशन की इच्छा जताते हुए पूरी प्रक्रिया की जानकारी ली थी।
बेटे से पिता ने कहा- तुम्हारी मां चली गई, लेकिन ये मौत भी दूसरे लोगों को जिंदगी देने वाली साबित होगी
पति ने कहा… वो हर अॉर्गन ले लीजिए जो दूसरों को जिंदगी दे : भोपाल ऑर्गन डोनेशन सोसायटी की प्रेसीडेंट डॉ. अमिता चांद जब कॅरियर मेडिकल कॉलेज पहुंची तो रमेशचंद पत्नी विमला के ऑर्गन डोनेट करने के लिए खुद को पूरी तरह तैयार कर चुके थे। उन्होंने अमिता से कहा कि मेरी पत्नी का वो हर ऑर्गन ले लीजिए जो किसी की जान बचाने के काम आ सके।
सिद्धांता में लिवर , बंसल और चिरायु में किडनी ट्रांसप्लांट : डॉॅक्टरों ने मंगलवार विमला को ब्रेड डेड घोषित करने की प्रक्रिया शुरू की। रात में 11 बजे विमला की बॉडी सिद्घांता अस्पताल में शिफ्ट की गई। बुधवार को एपनिया टेस्ट हुआ। मरीज का लिवर सिद्धांता के मरीज को, किडनी बंसल व चिरायु अस्पताल के मरीजों को लगेगी। कॉर्निया जीएमसी में भर्ती दो मरीजों को लगाए जाएंगे।
मौसम बिगड़ने के कारण 8 घंटे लेट हुई ट्रांसप्लांट की प्रक्रिया : फोर्टिस हॉस्पिटल के डॉक्टरों की टीम हार्ट लेने बुधवार को चार्टड प्लेन से भोपाल आने वाली थी। लेकिन मुंबई में मौसम बिगड़ने के चलते यह प्लान कैंसिल करना पड़ा। भोपाल के लिए तत्काल कोई फ्लाइट नहीं होने से टीम फ्लाइट से इंदौर पहुंची। रात में दस बजे टीम टैक्सी से भोपाल पहुंची।
2014 में सास ने भी किया था देहदान : विमला के बेटे अनुराग अजमेरा ने बताया कि 2014 में उनकी दादी हीरामणी की मौत हो गई थी। दादी की इच्छानुसार गांधी मेडिकल कॉलेज में उनका देहदान कर दिया गया था। विमला के पति रमेशचंद ने बताया कि उनकी पत्नी हमेशा लोगों की मदद करती थी। उनकी कमी तो कभी पूरी नहीं होगी। लेकिन सुकून है कि उसके ऑर्गन से 6 लोगों को नई जिंदगी मिलेगी।
सिद्धांता से एयरपोर्ट के बीच बनेगा कॉरिडोर : कलेक्टर तरुण पिथोरे ने बताया कि सिद्धांता अस्पताल से एयरपोर्ट के बीच में गुरुवसुबह सात बजे ग्रीन कॉरिडोर बनाया जाएगा। डॉक्टरों की टीम सुबह आठ बजे की फ्लाइट से हार्ट लेकर मुंबई जाएगी।
हादसे मेंं आई थी सिर में गंभीर चोट : 22 मई को सुबह टीटी नगर स्थित जैन मंदिर में पूजा करने पैदल जा रही थी। इस समय एक बाइक सवार ने उन्हें पीछे से टक्कर मार दी। उनके सिर में गंभीर चोट आई थी। परिजनों ने तत्काल उन्हें कॅरियर मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया था। बुधवार को सुबह उन्हें ब्रेनडेड घोषित कर दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here