देश में 15 हजार डिजिटल किराने की दुकानें बाजार में

0
403
50 लाख किराने की दुकानों को डिजिटल बनाएगा, जियो डिवाइस के जरिए जोड़े जाएंगे ग्राहक

नई दिल्ली. मुकेश अंबानी की रिलायंस कंपनी देश के रिटेल किराना बाजार में ऑनलाइन डिजिटल प्लेटफॉर्म लेकर आने वाली है। रिलायंस 2023 तक 50 लाख से ज्यादा किराने की दुकानों को डिजिटल प्लेटफॉर्म पर ले आएगा। फिलहाल देश में करीब 15 हजार डिजिटल किराने की दुकानें ही संचालित हैं। यह बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच की एक रिपोर्ट में सामने आया है। रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत में 90% रिटेल बाजार असंगठित है। 700 अरब डॉलर (करीब 49 लाख करोड़) का यह बाजार रिलांयस के लिए एक अवसर होगा।
रिपोर्ट में कहा गया है कि देशभर में 10 हजार रिटेल आउटलेट के साथ, रिलायंस दुनिया का सबसे बड़ा ऑनलाइन-टू-ऑफलाइन ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म बनाने के लिए काम कर रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक, किराना दुकान ई-कॉमर्स के लिए भी उन्हीं को रजिस्टर किया जाता है, जिनका महीने का टर्नओवर 9 लाख रुपए हो। रिलायंस की एंट्री के बाद यह प्राइस प्वाइंट कम होने की संभावना है। ऐसा होने से ज्यादा से ज्यादा व्यापारी खुद को ई-कॉमर्स पर रजिस्टर कराने को तैयार होंगे।
जियो एमपीओएस के जरिए ग्राहकों से जुड़ेगा रिलायंस :  रिलायंस अपने ग्राहकों से सीधे जुड़ने के लिए जियो एमपीओएस (मोबाइल पॉइंट-ऑफ-सेल) डिवाइस का इस्तेमाल करेगा। किराने की दुकानों को ऑनलाइन डिजिटल बनाने के लिए जियो डिवाइस को लगाया जाएगा। इस डिवाइस को 4जी नेटवर्क गति प्रदान करेगा। इसी डिवाइस के जरिए दुकानदार ग्राहकों से ऑर्डर प्राप्त करेगा और उन्हें किराना सामान पार्सल करेगा। इसी डिवाइस के जरिए ऑनलाइन भुगतान भी होगा।
रिलायंस 3 हजार रुपए में बेच रहा पीओएस डिवाइस
फिलहाल, देश के छोटे शहरों, गांवों और कस्बों में मौजूद किराना दुकानों में यह पीओएस डिवाइस देने वाली कंपनीज में स्नैपबिज, नुक्कड शॉप, और गोफ्रुगल शामिल हैं। स्नैपबिज ने देश के 7 से ज्यादा शहरों में 4,500 डिवाइसेज को इंस्टॉल किया है। यह आंकड़ा देश के कुल डिजिटाइज किए गए किराना स्टोर का 30 फीसदी है। यह सभी कंपनियां इस डिवाइस को 50 हजार रुपए की कीमत में बेच रही हैं, जबकि रिलायंस इसी डिवाइस को 3 हजार रुपए में उपलब्ध करा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here