सीबीएसई ने नियम बदले, परीक्षा में स्टूडेंट्स को दी ये छूट…….

0
402

CBSE 10th 12th Exam 2019: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद (सीबीएसई) के 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षार्थी अब परीक्षा हॉल में पानी की बोतल ले जा सकेंगे तथा घड़ी भी पहन सकते हैं। परीक्षा के पहले छात्र का जूता नहीं खुलवाया जाएगा। इन सारे नियमों में बदलाव सीबीएसई ने 10वीं बोर्ड परीक्षा शुरू होने के एक दिन पहले किया है, ताकि परीक्षार्थियों को दिक्कत न हो।

नियमानुसार परीक्षार्थी डिजिटल घड़ी नहीं पहन सकते हैं। नॉर्मल या एनालॉग घड़ी ही पहन कर जा सकेंगे। सीबीएसई ने बोर्ड परीक्षा में ऐसे कई नियम बनाए थे, जो इंजीनियरिंग और मेडिकल आदि प्रतियोगी परीक्षा के लिए होते हैं। इससे परीक्षार्थी काफी डरे-सहमे रहते थे। इसका असर उनकी परीक्षा पर भी दिख रहा था। परीक्षा केंद्र पर पहुंचने के साथ ही उनकी कई बार जांच की जाती थी। इसमें कई परीक्षार्थी नर्वस हो जाते थे।  एनालॉग घड़ी पहन सकते हैं। डिजिटल घड़ी नहीं पहननी है
पारदर्शी पानी की बोतल परीक्षा हॉल के अंदर ले जा सकेंगे .
पेन और पेंसिल के लिए पारदर्शी बैग या फोल्डर ले जा सकते हैं

CBSE 12th Exam 2019: जानें कैसा था सीबीएसई 12वीं फिजिक्स का पेपर
जांच से परेशान कई परीक्षार्थी रोने लगे:
फीडबैक में बोर्ड को पता चला कि छात्रों ने परीक्षा केंद्र पर जरूरत से ज्यादा नियम का विरोध किया है। जब जानकारी ली तो पता चला कि जांच के दौरान कई परीक्षार्थी रोने भी लगते हैं। बोर्ड ने कहा कि केंद्र पर जब तक जरूरी न लगे, तब तक छात्र के जूते नहीं उतरवाए जाएंगे।.

सिर्फ उपस्थित छात्रों की कॉपी भेजें मूल्यांकन केंद्र
बोर्ड ने सभी केंद्रों को परीक्षा में उपस्थित छात्रों की उत्तर पुस्तिका को ही मूल्यांकन केंद्र पर भेजने को कहा है। दिव्यांग परीक्षार्थी की उत्तर पुस्तिका को अलग से बोर्ड को पार्सल करनी है। ज्ञात हो कि कई परीक्षा केंद्र उपस्थित के साथ अनुपस्थित छात्रों की खाली उत्तर पुस्तिका भी बोर्ड को भेज दे रहे हैं। इस पर बोर्ड ने निर्देश जारी कर केवल उपस्थित परीक्षार्थी की उत्तर पुस्तिका ही भेजने को कहा है। .

CBSE 10th 12th Exam: फर्जी वीडियो को लेकर सीबीएसई ने दर्ज कराई FIR
02 मार्च से शुरू हुई थी 12वीं बोर्ड की परीक्षा, कई केंद्रों से मिली थी शिकायत.
बोर्ड ने 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा के नियमों में किया परिवर्तन.
परीक्षा के पहले किसी भी छात्र का जूता नहीं खुलवाया जाएगा.

संयम भारद्वाज (परीक्षा नियंत्रक, सीबीएसई) ने कहा कि केंद्रों को परीक्षार्थियों के लिए फ्रेंडली बनाये जाने के लिए नियमों में बदलाव किया गया है। परीक्षा हॉल में पारदर्शी बोतल में पानी ले जा सकेंगे। बिना किसी वजह से किसी बच्चे का जूता नहीं उतरवाया जाएगा। संबंधित जानकारी केंद्रों को भेज दी गई है।

परीक्षार्थियों की मांग पर बोर्ड ने उठाया कदम
दो मार्च से 12वीं बोर्ड की परीक्षा शुरू हुई है। सीबीएसई इस बार परीक्षा होने के बाद छात्रों से फीडबैक ले रहा है। ताकि उनकी परेशानी दूर हो सके। कई केंद्रों से परीक्षार्थियों ने जांच करने से होने वाली परेशानियों की शिकायत की। इसके बाद बोर्ड ने कुछ नियमों में बदलाव किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here