मार्च में इतने दिन बंद रहेंगे बैंक, जानिए पूरी लिस्ट……

0
273

देश में ज्यादातर लोग गोल्ड क्वाइन और ज्वैलरी में निवेश करना सबसे सुरक्षित माध्यम मानते हैं। महिलाएं भी गोल्ड ज्वैलरी यही सोचकर खरीदती हैं कि उनके बुरे वक्त में काम आएगी। घर में रखे सोने की कीमत तो बढ़ती है लेकिन इससे कोई अतिरिक्त फायदा या कमाई नहीं होती। अब यही सोना आपके लिए कमाई का जरिया बन सकता है। अगर आप इसे स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) की गोल्ड डिपॉजिट स्कीम (SBI Gold Deposit Scheme) में लगाते हैं तो घर पर रखे गोल्ड पर कमाई कर सकते हैं।

निवेश करने का ये है तरीका

गोल्ड बार, सोने के सिक्के (Gold Coin), ऐसे गहने जिसमें कोई स्टोन या मेटल ना लगा हो, ऐसा सोना बैंक में जमा किया जा सकता है। कस्टमर्स एक एप्लिकेशन फॉर्म, पहचान पत्र, एड्रेस प्रूफ और इंवेट्ररी फॉर्म भरकर सोना जमा कर सकते हैं। एसबीआई बैंक ने देश भर की सात ब्रांच को इसके लिए अधिकार दिया है। गोल्ड डिपॉजिट स्कीम की पूरी जानकारी एसबीआई (SBI) की वेबसाइट पर दी गई है।

कितना सोना करना होगा जमा

आपको कम से कम 30 ग्राम सोना जमा करना होगा। अधिकतम सोना जमा करने की कोई सीमा नहीं है।

PAN कार्ड में कराना है करेक्शन, ऑनलाइन कर सकते हैं अप्लाई
इतने साल के लिए करना होगा डिपॉजिट

1 सोना शॉर्ट टर्म बैंक डिपॉजिट के तहत 1 से 3 साल के लिए जमा कर सकते हैं।

2 मीडियम टर्म गवर्नमेंट डिपॉजिट में 5 से 7 साल के लिए निवेश कर सकते हैं। सरकार की तरफ से बैंक ये सोना अपने पास जमा करेगा।

3 लॉन्ग टर्म गवर्नमेंट डिपॉजिट 12 से 15 साल के लिए निवेश कर सकते हैं। सरकार की तरफ से बैंक ये सोना अपने पास जमा करेगा।

इतना मिलेगा ब्याज

1 शॉर्ट टर्म बैंक डिपॉजिट में 1 साल के लिए गोल्ड जमा करने पर 0.55 फीसदी, 1 से 2 साल के लिए 0.55 और 2 से 3 साल के लिए निवेश करने पर 0.60 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा।

2 मीडियम टर्म गवर्नमेंट डिपॉजिट पर 2.25 फीसदी का ब्याज मिलेगा।

3 लॉन्ग टर्म गवर्नमेंट डिपॉजिट पर 2.50 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा।

कैसे करती है गोल्ड डिपॉजिट स्कीम काम

एसबीआई रीवैम्प्ड गोल्ड डिपॉजिट स्कीम (Revamped Gold Deposit Scheme (R- GDS) में गोल्ड को FD की तरह जमा कराया जाता है। आप जमा किए गए सोने पर 0.55 फीसदी से 2.5 फीसदी सालाना की दर से ब्याज कमा सकते हैं।

कौन कर सकता है निवेश

कोई व्यक्ति या तो सिंगल सा ज्वॉइंट अकाउंट खोल सकता है। पार्टनरशिप फर्म, प्रोपराइटरशिप, सेबी के अंदर रजिस्टर्ड म्यूचुअल फंड, एक्सचेंज ट्रेड फंड, ट्रस्ट, कंपनी कोई भी इस स्कीम में निवेश कर सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here